Daant-dapat Ke Bina Bachhon Ko Kaise Sudhaaren - How To Discipline Your Child?
डांट-डपट के बिना बच्चों को कैसे सुधारें

अनुशासन सम्बन्धी आपकी सोच और विचार को बदल देने वाली एक प्रैक्टिकल पुस्तक
Daant-dapat Ke Bina Bachhon Ko Kaise Sudhaaren - How To Discipline Your Child?डांट-डपट के बिना बच्चों को कैसे सुधारें

Author: Juhi Aggarwal जूही अग्रवाल
Format: Paperback
Language: Hindi
ISBN: 9788178061856
Code: 9972D
Pages: 107
List Price: US$ 5.00
Price: US$ 4.50   You Save: US$ 0.50 (10.00%)

Publisher: Unicorn Books
Usually ships within 5 days


Add to Cart

Recommend to Friend

Download as PDF






Related Books

The Joy Of Parenting
The Joy Of Parenting
Sangeeta Gupta
US$ 4.00
US$ 2.80
Dada-dadi, Nana-nani Ki Chhanw Tale (the Joy Of Grand-parenting
Dada-dadi, Nana-nani Ki Chhanw Tale (the Joy Of Grand-parenting
Bimal Agrawal बिमल अग्रवाल
US$ 3.00
US$ 2.10
Mama, I`am Hungry!
Mama, I`am Hungry!
Juhi Aggarwal
US$ 4.00
US$ 2.80
Bringing Up A Dream Child
Bringing Up A Dream Child
Juhi Aggarwal
US$ 5.00
US$ 4.50
Progressive Parenting
Progressive Parenting
John Parankimalil
US$ 6.00
US$ 4.80
Solving Children`s Day-to-day Problems
Solving Children`s Day-to-day Problems
Nivedita
US$ 4.00
US$ 3.20
Baby & Child Care
Baby & Child Care
Dr. Sivaranjani Santosh
US$ 6.00
US$ 4.50
  


मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि बच्चे जन्म से उद्दंड या बिगड़े हुए नहीं होते, बल्कि उनके बिगड़ने का मुख्य कारण उनके ही माता-पिता, अभिभावक व बचपन में दिए गए संस्कार होते हैं।
सबसे पहले बच्चे के मां-बाप व अभिभावक को जानना होगा कि लालन-पालन का सही तरीका क्या है? इसी प्रकार किसी भी व्यक्ति को बच्चे का लालन-पालन कैसे करना है? क्योंकि बच्चा पैदायशी सीखकर नहीं आता है। अधिक डांट-डपट से बच्चा ढीठ व जिद्दी बन सकता है। बिना किसी कठोर दंड व डांट-डपट के बच्चे को किस प्रकार सभ्य, शिष्ट और अनुशासित बनाया जाय, यही इस पुस्तक का उद्देश्य है।
इस पुस्तक में ऐसे तमाम व्यावहारिक नुस्खे दिए गए हैं, जिनका प्रयोग कर माता-पिता बच्चों को ही नहीं , बल्कि किशोरों को भी बिना आपा खोए अनुशासित कर सकने में समर्थ होंगे।

^ Top

About the Author(s)

प्रस्तुत पुस्तक की लेखिका जूही अग्रवाल एम.एस.सी, एम.एड. हैं और बीस वर्ष से अधिक समय से बच्चों की शिक्षा से जुड़ी हुई हैं। आजकल वे दिल्ली के एक उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की प्रधानाचार्या हैं। उनके दो बच्चे हैं। प्रस्तुत पुस्तक में उन्होंने अपने दीर्घकालीन अनुभव का समावेश किया है।

Post   Reviews

Please Sign In to post reviews and comments about this product.

About Unicorn Books

Hide ⇓

Unicorn Books publishes an extensive range of books that are both affordable and high-quality.

^ Top